अनुशासन पर 10 वाक्य हिंदी में। 10 Lines On Discipline in Hindi.

अनुशासन पर 10 वाक्य हिंदी में।
10 Lines On Discipline in Hindi.

10 Lines On Discipline in Hindi

#1. अनुशासन  किसी भी व्यक्ति का सबसे महत्वपूर्ण गुण होता है।

#2. अनुशासन का अर्थ है-: नियमों और विधियों का पालन करना।

#3. अनुशासन की कसौटी है-: स्वशासन अर्थात बिना किसी दबाव या भय के स्वयं सहज रूप में नियमों का पालन करना।

#4.  अनुशासन अर्थात स्वशासन- स्वयं पर हर प्रकार के नियंत्रण को अनुशासन कहते हैं।

#5. अनुशासित व्यक्ति अपने आचरण से मूल्यों  के व्यवहार में ढालकर आदर्श प्रस्तुत करता है।

#6. अनुशासित व्यक्ति आत्म संयम से यह समझता है कि क्या उचित है क्या अनुचित है?

#7. अनुशासित व्यक्ति अपनी स्वेच्छा से समाज और राजनियमों,स्वास्थ्य और सदाचार के नियमों का पालन करता है ।

#8. अनुशासित व्यक्ति में सही समय पर सही निर्णय लेने की स्वयं की शक्ति होती है।

#9. अनुशासन मनुष्य में एक प्रकार का गुण होता है जो उसे उन्नति के पथ पर चलने को अग्रसर करता है।

#10. अनुशासित व्यक्ति अपने माता पिता गुरु के आदेशों का पालन पूरी ईमानदारी और निष्ठा भाव से करता है।

किसी भी व्यक्ति में सबसे महत्वपूर्ण गुण अनुशासन होना चाहिए। जिस व्यक्ति के अंदर अनुशासन का गुण नहीं होता है। वह कभी महान नहीं बन सकता है। अनुशासन का अर्थ है-: नियमों और विधियों का पालन करना।

अनुशासन पर 10 वाक्य हिंदी में।


अनुशासन की कसौटी है-: स्वशासन अर्थात बिना किसी दबाव या भय के स्वयं सहज रूप से नियमों का पालन करना चाहिए।

10 Lines On Discipline in Hindi


जिस व्यक्ति का परिवार, समाज, देश अनुशासित होता है। वह हमेशा प्रगति के पथ पर निरंतर बढ़ता जाता है। अनुशासित व्यक्ति अपने आप को हर समय अनुशासित रखता है।

Short Essay On Discipline

वह अपने आचरण को अनुशासन में ढालकर आदर्श प्रस्तुत करता है। वह अपने विवेक से सोच समझ कर ही कार्य करता है। अनुशासन एक प्रकार का गुण होता है जो इंसान को उन्नति के पथ पर लेकर जाता है। अनुशासित व्यक्ति में सही समय पर सही निर्णय लेने की स्वयं की शक्ति होती है।

अनुशासन पर 10 वाक्य हिंदी में।

अनुशासित व्यक्ति अपनी स्वेच्छा से समाज और राजनियमों, स्वास्थ्य और सदाचार के नियमों का पालन करता है ।ये सभी प्रकार के गुण उसके स्वभाव के अंग बन जाते हैं।

10 Lines On Discipline in Hindi

ऐसे व्यक्ति को जीवन में सफल होने के लिए अपने माता पिता गुरु के आदेशों का पालन पूरी निष्ठा भाव एवं ईमानदारी से करनी चाहिए। अनुशासित व्यक्ति अपने से बड़ों का सम्मान और अपने से छोटों को प्यार देता है।

ये प्यार और सम्मान का भाव निः संदेह ही उसे आदर्श मय बनाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *