Notice: Undefined variable: logo_id in /home/xga5pj6fapm2/public_html/wp-content/themes/schema-lite/functions.php on line 754

अब्दुल कलाम पर निबंध। Essay On Abdul kalam In Hindi

Essay On Abdul Kalam In Hindi

Essay On Abdul kalam In Hindi

Essay On Abdul kalam In Hindi

प्रस्तावना-:

कलाम साहब भारतीय इतिहास के लोकप्रिय व्यक्ति थे । उनकी बढ़ती हुई लोकप्रियता के कारण उन्हें भारत के 11 वें राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित किया गया था। डॉ• अब्दुल कलाम एक महान वैज्ञानिक, लेखक, मार्गदर्शक और इंजीनियर के रूप में जाने जाते हैं।

डॉ.अब्दुल कलाम साहब का जन्म 15 अक्टूबर सन 1931 ई. को धनुषकोडी रामेश्वरम तमिलनाडु के एक निर्धन परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम जैनुलाब्दीन था। वे एक मछुआरे थे । वे मछुआरों को किराए पर नाव देने का व्यवसाय करते हैं।

इस छोटे से व्यवसाय से इनके परिवार का पालन पोषण बड़ी मुश्किल से हो पाता था। इनकी माता का नाम आसिम्मा था। वे गृहणी एवं धार्मिक स्वभाव की महिला थीं। कलाम जी पांच भाई बहिन थे।उनमें सबसे छोटे कलाम जी थे।

कलाम जी बचपन से ही बड़े ही संस्कारी एवं होनहार बालक थे। घर की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण उन्हें पढ़ाई के साथ साथ काम भी करना पड़ता था। कलाम जी पढ़ाई के साथ साथ अखबार बेचने का कार्य भी करते थे। कलाम जी का बचपन से ही शिक्षा के प्रति गहरा लगाव था।

Essay On Abdul kalam In Hindi

उन्होंने शिक्षा को अपने जीवन का आधार बना लिया। और अंत में वे एक महान वैज्ञानिक बने। हमारे देश में उन्हें भारतीय मिसाइल निर्माता के रूप में पहचाना जाता है। कलाम जी ने वैज्ञानिक होने के साथ साथ ही एक महान लेखक, मार्गदर्शक औऱ इंजीनियरिंग के क्षेत्र में भी अतुलनीय योगदान दिया है। कलाम जी को अपने जीवन में कठिन से कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा।

कलाम जी की प्रारंभिक शिक्षा रामनाथपुरम के स्क्वायर मैट्रीकुलेशन नाम के विद्यालय में संपन्न हुई ।इन्होंने ग्रेजुएट की पढ़ाई तिरूचिरापल्ली जोसेफ कॉलेज से पूरी की और वैमानिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई मद्रास इंस्टिट्यूट से पूरी की।

विज्ञान के रूप में योगदान :–

कलाम जी ने विज्ञान के रूप में अतुलनीय योगदान दिया है । ग्रेजुएट की शिक्षा पूरी होने के बाद कलाम जी भारतीय वैज्ञानिक संस्थान डी आर डी ओ में एक प्रमुख वैज्ञानिक क़े रूप में जुड़ गए। उन्होंने अपने प्रारभिक प्रयास में ही स्वदेशी हेलीकॉप्टर डिजाइन में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।
कलाम जी डी आर डी ओ में अपने काम से पूर्ण रूप से संतुष्ट नहीं थे । इसलिए डॉ.कलाम जी सन 1969 ई. में भारतीय अंतरिक्ष संस्थान इसरो भेज दिया गया । वहां पर कलाम जी को परियोजना निदेशक बनाया गया । भारत ने कलाम जी के नेतृत्व में पहला स्वदेशी उपग्रह निर्मित किया। जिसका प्रक्षेपण पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्य काल में पूर्ण रूप से सम्पन्न हुआ।

अब्दुल कलाम पर निबंध।

कलाम जी को सन 1980 ई. में पुनः डी आर डी ओ में भेज दिया गया । भारत सरकार ने कलाम जी के कुशल नेतृत्व में सन 1988 ई. में पृथ्वी मिसाइल और सन 1989 ई.में अग्नि मिसाइल का सफ़ल परीक्षण किया। उस समय पर कलाम जी के नेतृत्व में भारत सरकार ने आधुनिक मिसाइल प्रोग्राम की शुरुआत की। कलाम जी एक प्रतिभाशाली वैज्ञानिक थे ।

उन्होंने अपनी प्रतिभाओं का सद्पयोग करके भारत को सुरक्षा की दृष्टि से शक्तिशाली बनाया ।कलाम जी के महत्वपूर्ण योगदान के कारण हमारा देश परमाणु शक्ति सम्पन्न राष्ट्र बन गया ।
कलाम जी सन 2002 से 2007 तक राष्ट्रपति के पद पर कार्यरत रहे ।उन्हें देश का सबसे सम्मानित राष्ट्रपति माना जाता है।

उन्हे भारत के सर्वोच्च सम्मान से नवाजा गया। कलाम जी को भारत सरकार के द्वारा पदम भूषण, पदम विभूषण पुरस्कार से भी पुरस्कृत किया गया। उन्हें सन 1997 ई. में इंदिरा गांधी अवार्ड से भी सम्मानित किया गया ।कलाम जी को कई यूनिवर्सिटी यों के द्वारा डॉ. की उपाधि से सम्मानित किया गया।

अधिक पढे:

ताजमहल पर निबंध हिंदी में

महात्मा गांधी पर निबंध


कलाम जी ने निम्नलिखित पुस्तकें लिखीं ।

  1. इंडिया 2020 अ विजन फोर द मिलेनियम।
  2. विंग्स ऑफ फायर ए न ऑटोबायोलॉजी।
  3. अग्नि की उड़ान।
  4. इग्नाइटेड माइंड्स अ न लीसिंग द पॉवर विद इन इंडिया ।
  5. तेजस्वी मन।
  6. आरोहण- प्रमुख स्वामी जी के साथ मेरा आध्यात्मिक सफ़र।
  7. माय जर्नी

निधन:

कलाम जी की 27 जुलाई 2015 को शिलोंग( मेघालय) में स्पीच करते समय हृदयाघात आ जाने के कारण म्रत्यु हो गई। उनके निधन से हमें अपूर्णनीय क्षति पहुंची है।

निष्कर्ष-:
कलाम जी को देश के सबसे सफ़ल एवं सर्वश्रेष्ठ राष्ट्रपति के रूप में देखा जाता है। वे आजीवन अविवाहित रहे। उन्होंने देश की सेवा पूरी मेहनत लगन और ईमानदारी से की। कलम जी के महान विचारों और कार्यों से आज के युवाओ को प्रेरणा मिलती है। वे शांत एवं सरल स्वभाव के व्यक्ति थे। उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन काल देश हित में समर्पित किया। वे देश के गैर राजनीतिक राष्ट्रपति भी बने। कलाम जी ने हमारे देश को सफलता की नयी ऊंचाइयो पर ले जाने का कार्य किया।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *