Notice: Undefined variable: logo_id in /home/xga5pj6fapm2/public_html/wp-content/themes/schema-lite/functions.php on line 754

दशहरा (विजयदशमी) पर निबंध हिंदी में। Essay On dussehra (Vijayadashami) in Hindi

दशहरा (विजयदशमी) पर निबंध हिंदी में।Essay On dussehra (Vijayadashami) in Hindi

प्रस्तावना- Introduction -:    

                                       दशहरा हिन्दू धर्म का महत्वपूर्ण त्योहार है। ये त्योहार शरद ऋतु में आता है। दशहरे के त्योहार को आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है।
 ये त्योहार अधर्म पर धर्म की जीत का प्रतीक है। दशहरा का त्योहार भी प्राचीन कालीन धार्मिक घटनाओं पर आधारित है। दशहरा क्षत्रियों से सम्बंधित त्योहार है।

 धार्मिक घटना -Religious Events -:       

          भगवान श्री राम के वनवास के समय में अधर्मी रावण ने सीता माता का छल से अपहरण कर लिया था। तब श्री राम ने सुग्रीव ,हनुमान, जामवंत की सहायता से लंका पर आक्रमण किया  तथा लंका पर विजय प्राप्त की। तब से अब तक इस दिन को प्रति वर्ष दशहरे के रूप में मनाया जाता है।


महत्व  Importance -:     

                              विजय दशमी के त्योहार को असत्य पर सत्य की जीत, अधर्म पर धर्म की जीत, बुराई पर अच्छाई की जीत,  पाप पर पुण्य की जीत के रूप मे मनाया जाता है। दशहरे  का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है। ये त्योहार अधर्म  पर धर्म की जीत का परिचय देता है। हमें अधर्म को छोड़कर धर्म के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देता है। धार्मिक व्यक्ति धीर ,वीर, महान ज्ञानी, साहसी और प्रतिभा शाली होता है। 


शस्त्र पूजा -Arms Worship -:       

                                      इस त्योहार पर सभी क्षत्रीय ,व्यापारी अपने सभी कार्यों को स्थगित कर देते हैं।  सभी अपने अस्त्र शस्त्रों की साफ सफाई करके उनकी पूजा अर्चना करते हैं।  पुनः अपने कार्यों को आगे बढ़ाने के लिए हथियारों और औजारों का निरीक्षण ठीक प्रकार से करते हैं।


धार्मिक विशेषताएं -Religious Characteristics -:   

                            इस त्योहार को भिन्न भिन्न स्थानों पर भिन्न भिन्न प्रकार के तौर तरीकों से मनाया जाता है। इस त्योहार पर लोग  धार्मिक विधि विधानों का पालन नियमित रूप से करते हैं। हिन्दू धर्म और भारतीय संस्कृति पूर्णतः धर्म पर आधारित है। इस धर्म के लोग अपनी धार्मिक परंपराओं पर विश्वास करके इस सम्पूर्ण विश्व में अपनी अलग ही पहचान बनाते हैं।


रामलीला का आयोजन- Organisation Of Ramleela-:   

                  हमारे देश में कई मुख्य स्थानों पर रामलीला का  आयोजन किया जाता है। दशहरा रामलीला का अंतिम दिन होता है। भारत की राजधानी दिल्ली में कुल्लू का दशहरा सबसे अधिक प्रसिद्ध है। 


इस दिन रामलीला के मुख्य पात्र श्री राम, लक्ष्मण, सीता आदि की झांकियां सजाकर निकलीं जातीं हैं। इनकी सजावट बहुत ही मनमोहक और आकर्षक होती है। दशहरे के दिन को रावण , कुंभकर्ण आदि राक्षसों के कागज के पुतलों को जलाया जाता है।


संध्याकाल के समय पर राम  और रावण के कृत्रिम युद्ध को दिखाया जाता है। उस युद्ध मे श्री राम रावण के पुतले में आग के तीर से वार करते हैं। रावण का पुतला धूं धूं कर जलने लगता है।


निष्कर्ष  – Conclusion -:             

                          दशहरा हिन्दू धर्म का मुख्य त्योहार है। इस पर्व को सभी भारत वासी मिलझुलकर मनाते हैं  और आपस में लोग मिठाइयां बांटते हैं। इस पर्व पर श्री राम के चरित्र पर प्रकाश डाला जाता है। दशहरे पर सभी लोग नए कपड़े पहनते हैं। माताएं बहिनें घर में भांति भांति प्रकार के पकवान बनाती हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *