Notice: Undefined variable: logo_id in /home/xga5pj6fapm2/public_html/wp-content/themes/schema-lite/functions.php on line 754

कुत्ते पर निबंध हिंदी में। Essay On Dog in Hindi.

Essay On Dog in Hindi.

Essay On Dog in Hindi


प्रस्तावना-
कुत्ता मनुष्य का पसंदीदा पालतू जानवर है।यह लगभग सभी देशों में पाये जाने वाला जानवर है।कुत्ता मनुष्य के जीवन में कई प्रकार से महत्वपूर्ण होता है। कुत्ता साधारण सा पालतू जानवर होता है। ये सामान्यतः सभी स्थानों पर आसानी से दिख जाता है।कुत्ते के विश्व भर में कई प्रजातियां पायीं जाती हैं। कुत्ता आमतौर पर इंसानों के बीच मिलझुल कर रहने वाला प्राणी भी है।पालतू कुत्ता बहुत ही समझदार और वफादार होता है।

कुत्ते को लगभग सभी लोग अपने घरों में पालना पसंद करते हैं।कुछ लोग कुत्तों को पालने के कुछ ज्यादा ही शौकीन होते है।मनुष्य के जीवन में प्रशिक्षित कुत्ते बहुत ही उपयोगी साबित होते हैं।अधिकतर लोग कुत्ते के बच्चों को पालना पसंद करते हैं।कुत्ते के बच्चे घर परिवार के सदस्यों का भरपूर मनोरंजन करते हैं। कुत्तों का घर की रखवाली में भी अहम योगदान होता है।कुत्ता तेज दिमाग का जानवर होता है। ये अपने मालिक और उसके परिवार के सदस्यों की भावनाओं को बड़ी आसानी से समझ लेता है।

शारीरिक रंग रूप –
कुत्ते की विभिन्न प्रकार की प्रजातियां होती हैं।कुत्तों के कई रंग होते हैं। अधिकतर कुत्तों रंग काला और सफेद होता है।कुत्ते के शरीर का अधिकतम वजन 15 से 20 किलोग्राम तक होता है। कुत्ते के पूरे शरीर पर बाल पाये जाते हैं।कुत्ते के पास चार पैर दो कान दो आंखें और दो नाक होती हैं।कुत्ते के पास एक छोटी पूंछ भी होती है।कुत्ते के पंजों में 18 से 20 तक नाखून होते हैं। कुत्ते के दांत मजबूत और कील के तरह के होते हैं।कुत्ते में सूंघने की क्षमता सबसे अधिक होती है।कुत्ते इंसानों और जानवरों को सूंघ कर भी पहचान सकते हैं।

रहन-सहन-
कुत्ते सामान्यतः इंसानो के मध्य रहना पसंद करते हैं।कुत्ते शाकाहारी और मांसाहारी दोनों ही प्रकार के होते हैं।कुत्ते हमेशा समूहों में रहते हैं। मादा कुत्ती गर्भ धारण करने के 90 दिन बाद बच्चों को जन्म देती है। कुत्ते के बच्चे 10 से 15 दिनों के बाद चलना फिरना आरम्भ कर देते हैं।मादा कुत्ती अपने बच्चों को दूध पिलाती है। कुत्ते के बच्चों को पिल्ला कहते हैं।

जीवनकाल
कुत्ते का औसतन जीवनकाल लगभग 10 से 15 वर्षों तक होता है। कुत्तों औऱ जंगली भेड़ियों में कई प्रकार की समानताएँ पायीं जाती हैं। कुछ बिन पालतू कुत्तों का जीवनकाल 1 से 2 वर्षों तक होता है। कुत्तों की सड़कों पर वाहनों के द्वारा आकस्मिक दुर्घटना से म्रत्यु हो जाती है।

भोजन
कुत्ता मुख्यतः मांसाहारी प्राणी होता है। कुत्ते मांस खाना सबसे अधिक पसंद करते हैं। कुत्ते का भोजन मांस रोटी और सब्जियां होती हैं। कुछ कुत्ते भोजन के लिए पशु पंछियों को भी अपना शिकार बना लेते हैं।

धार्मिक महत्व-
कुत्ते का भारतीय संस्कृति और हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है। कुत्ते को भगवान भैरवनाथ की सवारी माना जाता है।हिन्दू धर्म में काला कुत्ता पालना बहुत ही शुभ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि काले कुत्ते को भोजन खिलाने से शनिदेव और भैरवनाथ बहुत ही प्रसन्न होते हैं और वे अपने भक्तों की मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं।

निष्कर्ष-
कुत्ता एक साधारण सा जानवर होता है।ये विश्व के सभी देशों में पाया जाता है।कुत्ता मनुष्य के जीवन में बहुत ही उपयोगी सिद्ध होता है।कुत्ते का प्रयोग सेना और पुलिस विभाग में अपराधियों को पकड़ने में भी किया जाता है। कुत्ता तेज दिमाग का फुर्तीला जानवर होता है। कुत्ता 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकता है। यह एक सार्वजनिक प्राणी भी है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *