Notice: Undefined variable: logo_id in /home/xga5pj6fapm2/public_html/wp-content/themes/schema-lite/functions.php on line 754

बत्तख पर निबंध हिंदी में। Essay On Duck In Hindi.

Essay On Duck In Hindi.


1.प्रस्तावना 2.शारीरिक रूप रंग 3. रहन सहन 4.बत्तख का जीवनकाल 5. व्यवसायिक प्रयोग 6. निष्कर्ष

Essay On Duck In Hindi.

Essay On Duck In Hindi.


प्रस्तावना -:
बत्तख हंस प्रजाति का पंछी होता है। ये जल और जमीन दोनों जगहों पर पाये जाते हैं। बत्तख एक ऐसा पंछी होता है जो पानी में तैर सकता है, जमीन पर चल सकता है और हवा में उड़ भी सकता है। बत्तख हंस पंछी ब की अपेक्षा छोटा आकर्षक और सुंदर पंछी होता है। यह नदियों, तालाबों,झीलों और समुन्द्रो में पाए जाते हैं।

बत्तख की संसार भर में 40 से अधिक प्रजातियां पायी जाती हैं। बत्तक दिखने में बेहद ही खूबसूरत और आकर्षक होता है।बत्तख अपना अधिकतम समय पानी में ही व्यतीत करती है।बत्तख कई रंगों की होती है।जिसमे श्वेत रंग की बत्तख बहुत ही मनमोहक दिखती है।

Essay On Duck In Hindi

शारीरिक रंग रूप -:
बत्तख हंस प्रजाति का छोटा एवं जलीय प्राणी होता है।इसकी शारीरिक बनावट हंस के जैसी ही होती है।हंस के शरीर की अपेक्षा इसका शरीर हल्का होता है।इसकी गर्दन हंस की तरह घुमावदार और लंबी होती है।बत्तख के पैर झिल्ली दार होते हैं। बत्तख के पंखों में विशेषता होती है कि पानी में भीगने के बाद भी गीले नहीं होते हैं।इसकी आंखें गोल होती हैं। बत्तख की तीन पलकें होती हैं।

रहन-सहन-:
बत्तख पंछी नदियों, तालाबों, झीलों, नहरों, जल प्रपातों और समुन्द्रों में पाई जाती हैं। ये अपना अधिकतम समय पानी में तैरते हुए ही व्यतीत करती है।बत्तख एक बार में 250 से 300 तक अंडे देती हैं। इसके अंडे मुर्गी के अंडे से थोड़े बड़े होते हैं।बत्तख अपने शरीर की गर्मी से अंडों को सेने का कार्य करती है।जिससे 30 दिन के बाद बच्चे बाहर निकलते हैं। नर और मादा बत्तख दोनों ही अपने बच्चों की देखभाल करते हैं।

बत्तख का भोजन-:
बत्तख का अधिकांश भोजन छोटे जलीय प्राणी होते हैं । बत्तख छोटे कीड़े मकोड़े, मछलियां आदि का सेवन करती है।बत्तख सर्वाहारी पंछी होता है।ये पानी में पाए जाने वाले शैवाल और पत्तियों का भी भोजन करती है।

बत्तख का जीवनकाल-:
एक सामान्य बत्तख की औसतन आयु 10 से 12 वर्ष तक होती है। व्यवसायिक बत्तख की आयु 2 से 4 वर्ष तक होती है। ये अपना अधिकांश जीवन पानी में ही व्यतीत करती है।

व्यावसायिक प्रयोग-:
लोग बत्तख का व्यवसाय भी करते हैं। मुर्गी पालन की तरह ही बत्तख पालन भी किया जाता है।बत्तख से हमें अंडे एवं मांस प्राप्त होता है।इसके पंखों का प्रयोग रजाई तकियों गादियों आदि भरने में किया जाता है।

निष्कर्ष-:
बत्तख पंछी भिन्न भिन्न रंगों का होता है ये स्वच्छ पानी में विचरण करना सबसे अधिक पसंद करते हैं। बत्तख पंछी क्वैक क्वैक की आवाज निकालता है। बत्तख की नेत्र दृष्टि अधिक होती है। वह पानी में भी अपने शिकार को आसानी से देख सकती है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *